अपनी पुरानी गर्ल फ्रेंड को छत पर चोदा



हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम वरून है और मै मुंबई का रहने वाला हूँ, में अभी एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम करता हूँ और में 27 साल का हूँ। मेरी हाईट 6 फुट है, मस्त बॉडी, 8 इंच लम्बा लंड है। यह स्टोरी मेरी और मेरी गर्लफ्रेंड की है और यह घटना 3 महीने पहले हुई थी। अब मै आपका समय ख़राब ना करते हुए सीधा अपनी स्टोरी पर आता हूँ।

मेरी गर्लफ्रेंड का नाम दिव्या है और वो मुझसे 3 साल बड़ी है, हम जब कॉलेज में थे तब हमारी रिलेशनशिप थी। वो मेरी सीनियर थी और हम काफ़ी सीरीयस थे, उसका फिगर साईज 36-28-38 है, फेयर कलर, हाईट 5 फुट 6 इंच और वो दिखने में बहुत सेक्सी है।

मुझे कॉलेज में लोग बहुत इज्जत देते थे, क्योंकि मुझे दिव्या जैसी लड़की मिली थी और सारे लड़के उस पर पागल थे। अब उसका कॉलेज ख़त्म हो गया था, तभी हमारा भी ब्रेक-अप हो गया, क्योंकि फिर हम दोनों की लाईफ इतनी अलग हो गई थी कि रिलेशनशिप हैंडल करना मुश्किल था, लेकिन वो कभी-कभी मेरे पास सेक्स करने के लिए आती थी और हमारी सेक्स लाईफ बहुत अच्छी थी, लेकिन वो भी फिर ख़त्म हो गयी, फिर 2 महीने पहले मुझे उसका मैसेज आया।

दिव्या : हाय, हाउ आर यू?

में : हाय, आई एम गुड कैसा चल रहा है सब?

दिव्या : बस सब ठीक है, अच्छा सुनो, मुझे पता है कि हमें मिले काफ़ी टाईम हो गया है और मैंने अगले हफ्ते मेरे घर पर और मेरी रूममेट ने एक पार्टी रखी है, तुम आ सकते हो?

में : ओह वाउ, हाँ हाँ बिल्कुल में तुम्हें काफ़ी टाईम से मिला भी नहीं हूँ, अच्छा है में वहाँ आ जाऊंगा।

फिर में उस दिन का इंतजार करता रहा। उस टाईम उसका नया बॉयफ्रेंड भी था, जो पार्टी में आने वाला था इसलिए मेरी दिव्या के साथ सेक्स करने की ऐसी कोई इच्छा नहीं थी, लेकिन वो सेक्सी बॉडी, बाउनसिंग बूब्स और सॉफ्ट गांड के बारे में सोचकर मेरा उससे मिलने का मन करने लगा था।

फिर एक हफ़्ता बीत गया और पार्टी का दिन आया। अब में उसके घर पर हाउस वॉरमिंग गिफ्ट लेकर और फ्लावर्स के साथ गया, वो घर एक बंगलो था, जिसका टॉप फ्लोर उसका और उसकी रूममेट का था, जहाँ से छत पर भी जा सकते थे। फिर जैसे ही मैंने बेल बजाई, तो दिव्या ने दरवाज़ा खोला।

अब वो एक सेक्सी रेड ड्रेस में थी, जो स्ट्रेपलेस था, रेड लिपस्टिक, ब्लेक हील्स ओह माई गॉड। अब में तो इतनी गॉर्जियस, खूबसूरत, सेक्सी लड़की को देखता ही रह गया था। फिर हमने तुरंत एक दूसरे को देखकर हग किया, उस पार्टी में उसके और उसकी रूमेट के काफ़ी फ्रेंड्स थे और दिव्या का नया बॉयफ्रेंड भी था।

फिर उसने मुझे उससे मिलाया और उसको देखकर मुझे पता लग गया कि यह मुझे ज़्यादा पसंद नहीं करने वाला है। फिर दिव्या मुझे ड्रिंक्स लेने के लिए कहने लगी और फिर मेरे साथ कुछ टाईम बिताकर वो दूसरे फ्रेंड्स के साथ चली गयी। अब पूरे टाईम पार्टी में मै और दिव्या एक दूसरे को देखते रहे।

फिर कुछ टाईम के बाद उसका बॉयफ्रेंड कुछ जरुरी काम के लिए चला गया और अब हम डांस करने लगे थे। अब हम दोनों ने थोड़ी ड्रिंक्स ले रखी थी और अब हम दोनों एक दूसरे के बहुत करीब थे। अब लगभग सारे फ्रेंड्स जा चुके थे और बाकी रूम में थे।

अब उसके हाथ मेरे कंधो पर थे और वो मेरे बालों में अपनी उंगलियाँ घुमा रही थी और अब मैंने उसे मेरी तरफ और खींच लिया था। अब मेरे हाथ उसकी सेक्सी सी सॉफ्ट गांड पर थे और मेरा लंड उसकी चूत के पास टच कर रहा था। अब मेरा लंड धीरे-धीरे खड़ा होने लगा था और अब उसे देखकर पता चल गया था कि उसे यह सब अच्छा लग रहा है।

अब हम ऐसे ही कुछ टाईम तक एक दूसरे को टच करते है और फिर उसकी आँखें धीरे-धीरे बंद होने लगी। अब मुझे इससे पता लग गया था कि वो गर्म और हॉर्नी हो रही थी और मेरे खड़े 7 इंच के लंड पर रब कर रही थी।

दिव्या : पता है में अभी भी हमारे टाईम के बारे में सोचती हूँ।

मै : अच्छा? उसमें क्या ऐसा याद आता है?

दिव्या : तुझे पता है हमारी सेक्स लाईफ सबसे अच्छी थी।

में : हाँ वो तो पता है।

अब यह सुनकर वो मेरा हाथ पकड़कर छत की तरफ जाने लगी।

अब तो हम दोनों को पता चल गया था कि आगे क्या होने वाला है? लेकिन वो कंट्रोल करने की कोशिश कर रही थी, क्योंकि उसके बॉयफ्रेंड था, लेकिन मेरे लंड ने मुझे पूरा अपने कंट्रोल में कर लिया था और अब में बहुत हॉर्नी था। फिर जैसे ही हम छत पर पहुँचे तो मैंने उसे पीछे से हग किया और मेरा लंड उसकी गांड पर रब करने लगा और दिव्या की गर्दन पर किस करने लगा।

अब उसको भी कंट्रोल नहीं हो रहा था और फिर वो भी घूमकर मेरा साथ देने लगी थी। फिर उसने मुझे किस किया और फिर में भी उसकी जीभ के साथ उसे किस करने लगा। अब हम दोनों किस करते-करते एक दूसरे को टच करने लगे थे।

फिर उसका हाथ सीधे मेरे खड़े लंड पर गया और वो मेरी जीन्स के ऊपर से ही उसे रगड़ने लगी और अब मेरा हाथ उसकी गांड को दबा रहा था श फुक्कककक, आई एम सो वेट, अब दिव्या मौन करने लगी थी। दोस्तों ये कहानी आप मस्तराम डॉट नेट पर पड़ रहे है।

अब मेरा एक हाथ उसकी गांड पर था और दूसरा हाथ उसके बूब्स पर था और अब वो बहुत मौन करने लगी थी। फिर मैंने उसे एक दीवार से चिपका दिया और उसके बूब्स चूसने लगा। अब दिव्या आआआहहहह ऊहह यस यस चूसो कहकर मेरा सिर अपने बूब्स पर प्रेस दबाने लगी थी।

अब मेरा दूसरा हाथ उसकी चूत पर था, अब वो इतनी गर्म थी कि उसकी पेंटी भी गीली हो गई थी और में उसकी चूत के दाने को रब कर रहा था। अब दिव्या आहह यस यस कितना अच्छा लग रहा है, ऐसे ही उंगली करो मुझे बेबी, कितना मिस किया तेरी उंगली को मेरे अंदर, मेरी चूत को फाड़ दो बोले जा रही थी।

अब में उसे फिंगरिंग कर रहा था और बूब्स चूस रहा था। अब वो पागल हो गई थी, फिर 3-4 मिनट के बाद उसने अपना काम किया आअहह आई एम कमिंग फुक-फुक मी यसस्स कम करके, वो मेरी जीन्स उतारने लगी।

अब मेरा लंड जीन्स उतारते ही ऊपर उठ गया था। फिर मैंने उसे उठाकर उसका फेस दीवार की तरफ करते हुए खड़ा किया और डॉगी स्टाइल में उसकी चूत में मेरा लंड घुसा दिया। अब दिव्या ऑश फुक्कक यस यसस्स बेबी, चोदो मुझे फक मी, मुझे यह लंड चाहिए और घुसाओ बोले जा रही थी।

अब में उसे चोदने लगा। हम दोनों बहुत जोरदार सेक्स करते थे और तब भी वही कर रहे थे। फिर मैंने अपने एक हाथ से उसकी गर्दन पकड़ी और ज़ोर-ज़ोर से चोदने लगा। अब उसके बूब्स मेरी छाती से दब रहे थे। अब दिव्या आआआआह्ह आहहहह ऑह गॉड चोदो, आज तुम मेरी चूत फाड़ दो, कितना मिस किया है तुम्हारे लंड को मेरे अंदर और और और बोले जा रही थी।

फिर मैंने ऐसे ही 15 मिनट तक उसे चोदा और उसने 2 बार और अपना काम किया और फिर मेरा काम उसने अपने बूब्स पर ले लिया और हम वहीं छत पर गिर पड़े, यह सोचकर कि हमें शायद कुछ लोगों को एक शो दिया हो। फिर हम अपने कपड़े ठीक करके नीचे गये और फिर थोड़ी ड्रिंक्स लेकर में वहाँ से निकल गया।।

आप अपने विचार व सुझाव मुझे कमेंट बॉक्स में दे सकते है.

One Comment
  1. rakehs
    | Reply

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *